शराबी की पत्नी | Moral Stories In Hindi

नैतिक कहानियां हिंदी में – Short Moral Stories In Hindi

Short Moral Stories In Hindi – “सौ सोनार की और एक लोहार की” ये कहावत तो हर कोई अपने दादा, दादी अथवा गांव के बड़े बुजुर्गों से सुना होगा, सुनार के सौ स्ट्रोक की तुलना लोहार के एक झटके से नहीं की जा सकती। इसी तरह, दादा, दादी अपने  दैनिक अथक प्रयासों से अपने पोता, पोती, को  एक अच्छा संस्कारी बच्चा बनाने के लिए संतों और देवताओं अथवा  राक्षसों की कहानिया सुनाया करते थे

शराबी आदमी-(Drunk Man)

एक बार की बात है एक दूर गाँव में एक शराबी आदमी  रहता था। जिस तरह एक गाँव में दर्जी, बढ़ई, मंदिर के पुजारी आदि जैसे विभिन्न शिल्पों में विशेषज्ञता वाले पुरुष रहते हैं, यह आदमी शराब पीने में माहिर था। एक के बाद एक शराब की बोतल को तेजी से खाली करने और फिर गहरी ध्यान की नींद में लेटने का उसका ये कौशल गाँव के लोगों को नहीं भाता था

रोचक नैतिक कहानी – Short Moral Stories In Hindi

जैसा कि लोग कहते हैं की  घर में प्रतिभा की कभी सराहना नहीं की जाती है। अपने एकमात्र कौशल की इस सार्वजनिक अस्वीकृति से निराश होकर वे क्रोधित हो जाते और अपनी गरीब पीड़ित पत्नी पर अपना रोष निकालते।बेशक, उसके पति की कुछ महिमा उस पर बरस गई और उसकी बिना किसी गलती के,  शराबी से शादी कर ली, और शराबी के कारण उसकी पत्नी को भी एक हीन भावना के रूप में देखा गया

Short Moral Stories In Hindi Drunk Man
Drunk Man

यद्यपि पत्नी इस कहानी की मुख्य नायिका है,  जो की कहानी को आगे बढ़ाने के लिए एक सहायक अतिथि की भूमिका की आवश्यकता होती है जो कहानी के लिए एक संक्षिप्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

यहां मैं आप पाठकों का ध्यान रामायण की मैडम मंथरा की ओर आकर्षित करना चाहता हूं, जो रानी कैकेयी की केवल 1-रात की सलाहकार भूमिका द्वारा रामायण की पूरी  कथा के शांत प्रवाह को बदल देती हैं।

पुरे रामायण में फिर से मैडम मंथरा का उल्लेख कहीं नहीं किया गया है लेकिन उनकी 2 मिनट की उपस्थिति रामायण के लिए महत्वपूर्ण है। इसी प्रकार हमारे जीवन में लोंगो के बिचारों से कब हमारे संस्कार में परिवर्तन आ जाता है जिसे हम समझ नहीं पाते हैं

कहानी पर वापस आते हुए, तो शराबी की पत्नी ने खुद को छोटे-मोटे कामों और कठिन दैनिक शारीरिक श्रम करके गांव में रहने का निर्वाह किया।

लेकिन हमेशा के लिए आसान और पूरे गांव के लिए उपयोगी गृहिणी या नौकर की तरह गावं के लोग उसका सम्मान करते एक आम ग्राम सेवक की इस तरह की मांग वाली भूमिका के कारण गरीब पत्नी पर उसकी अविश्वसनीय साख और शराबी की पत्नी होने के सम्मान के कारण, उसे जल्द ही “गांव भवानी” होने की अन्य प्रतिष्ठित उपाधि से गांव की महिलाओं द्वारा सम्मानित किया गया।

यह लंबे समय से अस्पष्ट और भुला दिया गया था और उसे एक दिन सर्वसम्मति से “उस शराबी की पत्नी” का ग्राम सम्मान शीर्षक प्रदान किया गया, जिसमें शराबी  की पत्नी के शब्दों अथवा उसके जीवन पर अतिरिक्त जोर दिया गया।

इस Moral Story में बताया गया है की केवल कुछ लोगों के गलत संस्कार होने से हमें अपने संस्कारों से कभी भटकना नहीं चाहिए, जिससे हमारे जीवन पे कोई गलत प्रभाव न पड़े.

Motivational Story

1 thought on “शराबी की पत्नी | Moral Stories In Hindi”

Leave a Comment