जाने भिखारी से बिजनेसमैन बनने तक का सफ़र – Top 3 Short Story In Hindi For Kids

अगर आप हिंदी में  Top 3 Short Story In Hindi  ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल सही जगह आ पहुंचे है। हम इस लेख के माध्यम सेआपको  Short Story In Hindi के बारे में बताने वाले है। Short Hindi Story का अर्थ हैं लघु नैतिक कहानियां। यही छोटी -छोटी नैतिक कहानियाँ हमारी संस्कृति की महानता का वर्णन करती है।

इन नैतिक हिंदी कहानियाँ से आपऔरआपकेबच्चे बहुत सारी अच्छी बात सीखते है। जिनको आप अपनी जीवन में प्रयोग करके सफलता पा सकते है।दोस्तों हर इंसान के जीवन मे फिर चाहे वो बच्चा होया फिर बूढ़ा, सबके जीवन मे ये कहानियाँ बहुत ही बड़ी भूमिका निभाती है।

इन नैतिक कहानियों के माध्यम से बच्चे यह सिखाता है कि जिंदगी में एक बेहतर इंसान कैसे बना जाये। यह कहानियाँ बहुत ही रोचक और मजेदारहुआ करती है। जिनको पढ़कर आपको और बच्चों को बहुत आनंद आएगा।

Top 3 Short Story In Hindi For Kids

  • भिखारी बना बिजनेसमैन
  • शराबी की पत्नी
  • एक दिन का स्पेनिश क्लास

       इसे भी पढ़ें: Moral Story
       इसे भी पढ़ें: Motivational Story

आपने अपने घर के बड़े बुजुर्गो के मुँह से सुना ही होगा की एक इंसान अपनी लाइफ में उतना ही आगे बढ़ सकता है जितना की वो बढ़ना चाहता हो।

1) भिखारी बना बिजनेसमैन – Short Story In Hindi

एक दिन की बात है ट्रैन में एक व्यपारी यात्रा कर रहा था तभी उस ट्रैन में एक भिखारी भीख मांगने उस व्यपारी के पास आया और ट्रैन मैं मौजुद उस व्यपारी से भीख मांगने लगा।

तब उस व्यपारी ने भिखारी से कहा की देखो भाई में पेशे से एक व्यपारी हु और जिस कारन में लेन-देन में भरोसा रखता हु ।अगर तुम्हारे पास बदले में मुझे देने के लिए कुछ है? तो तभी में तुम्हे कुछ दूंगा । व्यपारी की कही इस बात ने भिखारी के दिल को छू लिया।

भिखारी ने यह बात सुनकर मन बना लिया की आज से जब भी कोई व्यक्ति मुझे भीख देगा, तो बदले में मैं भी उसे उपहार के रूप कुछ न कुछ दूंगा।
अब भिखारी सोच में पढ़ गया की आखीर में लोगो को बदले में क्या दू। याही सोचते सोचते उसकी नजर बगीचे में लगे फूलो पर गयी । वहा से भिखारी कुछ फूल तोड़कर लाया अब जो भी इंसान उसे भीख देता बदले में वे भी फूल देने लगा।

ऐसे ही कुछ दिन निकलने के बाद भिखारी फिर से वही व्यपारी से ट्रैन में मिला और उसके पास गया और व्यपारी से कहने लगा की आप ने मुझे पिछली बार ये बोलकरे कुछ नहीं दिया की में एक व्यपारी अगर तुम मुझे कुछ दोगे तभी बदले में मैं तुम्हे कुछ दूंगा , तो आज आपको देने के लिए मेरे पास ये सुन्दर फूल है।

यह देख व्यपारी बहुत खुश हुआ तबी उसने भिखारी से फूल लेकर उसे बदले में बहुत अच्छी भीख दी और भिखारी से कहा की भाई आज से तो तुम भी मेरी भाती एक व्यपारी बन गए यह बात सुनकर वो भिखारी मन ही मन बहुत खुश हो गयाऔर सोचने लगा की अब तो में भी एक व्यपारी बन गया हु।

ऐसे ही कुछ वर्ष निकल गए फिर अचानक से एक दिन भिखारी ने उसी व्यपारी को ट्रैन में देखा। भिखारी उस व्यपारी के पास गया और व्यपारी से बोला मुझे पहचाना? व्यपारी हैरान होकर उसकी और देखा और बोला मुझे नहीं पता की तुम कौन हो ?

व्यपारी उस भिखारी को नहीं पहचान पाया क्युकी अब ये भिखारी पहले जैसा नहीं था। तब भिखारी ने व्यपारी से कहा की ये हमारी इस ट्रैन में ये तीसरी मुलाकात है। में वही भिखारी हु जो आपकी प्रेरणा की वजह से एक बहुत बड़ा फूलो का व्यपारी बन गया है।

Moral of the story:

इस कहानी (Short Hindi Story) से ये शिक्षा मिलती है की इंसान अपनी लाइफ में उतना ही आगे बढ़ सकता है जितना की वो बढ़ना चाहता हो।

2) शराबी की पत्नी

3) एक दिन का स्पेनिश क्लास

Leave a Comment