दोहरा शतक लगा रिकॉर्ड बनाने वाले क्रिकेटर यशस्वी जायसवाल की Biography in Hindi

आज हम इस लेख के माध्यम से आपको एक उभरते हुए शानदार व युवा प्रतिभाशाली क्रिकेटर के बारे में बात करने जा रहे हैं। हम बात करने जा रहे हैं यशस्वी भूपेंद्र कुमार जायसवाल जिन्हे यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) के नाम से भी जाना जाता है। इस साल 2020 में हुए आईपीएल में कई नए चेहरे उभर के आए जिनमे से यशस्वी जायसवाल का भी नाम शामिल है|

यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) की उम्र, जीवन परिचय, संघर्ष, परिवार और करियर की विस्तार से जानकारी पाने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़े और जाने कैसे एक लड़का गोलगप्पे और दूध बेचकर भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बना |

जाने कौन है यशस्वी जायसवाल

यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) एक बहुत ही अच्छे क्रिकेट प्लेयर हैं जिन्होंने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत 2018 में हुए एशिया कप अंडर 19 में हिंसा लेके की अंडर 19 एशिया कप में शामिल होने के कारण यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) खूब चर्चा में रहे। यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) क्रिकेट की दुनिया का एक ऐसा चेहरा है जिसने अपने सपनो को पूरा करने के लिए ज़िन्दगी में आने वाली कई कठिनाइयों व परेशानियों का डट कर सामना किया।

यशस्वी जायसवाल जैसे क्रिकेटर की संघर्ष भरी यात्रा व कहानी क्रिकेट की दुनिया में कदम रखने वालो के लिए एक प्रेरणा का स्रोत है। यशस्वी जायसवाल सबसे कम उम्र में दोहरा शतक लगाने वाले सर्वश्रेष्ठ भारतीय खिलाडी के रूप में भी विख्यात है।

यह एक भारतीय ओपनिंग बल्लेबाज है की घरेलू क्रिकेट में मुंबई के लिए खेला करते थे परन्तु अब उन्हें शिल्पा शेट्टी की राजस्थान रॉयल आईपीएल टीम ने दो करोड़ चालीस लाख रूपये में खरीद अपनी टीम में शामिल किया।

इसे भी पढ़े – Venkatesh Iyer Biography

इसे भी पढ़े – Virat Kohli Anushka Sharma Biography

यशस्वी जायसवाल के प्रारंभिक जीवन का परिचय – Yashasvi Jaiswal Biography in Hindi

भारतीय क्रिकेट जगत में यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) के नाम से विख्यात क्रिकेटर यशस्वी का जन्म 28 दिसंबर 2001 में उत्तर प्रदेश राज्य के भदोही जिले नमक एक छोटे से गांव जिसका नाम सुरियावां में एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था। यशस्वी के माता पिता के पास अपनी खुद की कोई जमीन या रहने की जगह नहीं थी।

अपना जीवन यापन करने के लिए उनके परिवार वालो को अलग -अलग जगहों पर टेंट लगाकर के रहना पड़ता था। इनके पिता भूपेंद्र कुमार जायसवाल एक छोटी सी हार्डवेयर और पेंट की दुकान चलते थे जिससे वे कुछ खास कमाई नहीं कर पाते थे और ना ही अपने परिवार वालो का भरण पोषड कर पाते थे। माता कंचन जायसवाल भी एक साधारण गृहणी के रूप में अपने सभी बच्चों का लालन-पालन बड़े ही प्यार से किया है।

10 वर्ष की छोटी सी उम्र से ही यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) क्रिकेट सीखने व खेलने लगे थे उनके अंदर क्रिकेट को लेकर काफी जुनून था। यशस्वी जायसवाल अपना करियर क्रिकेट जगत में काफी उचाई पर ले जाना चाहते थे जिसके लिए उन्होंने मुंबई शहर जाके क्रिकेट प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया परन्तु क्रिकेट के मैदान और दादर के बीच की दुरी बहुत ज्यादा थी।

घर से मैदान तक जाने के लिए उन्हें बहुत परिश्रम करना पढ़ता था जिससे उनका समय और एनर्जी दोनों बहुत बेकार जाती थी इसी कारण यशस्वी ने कालबादेवी जाके बसने का फैसला किया। यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) अपना रोज़मरा का खर्चा उठाने के लिए उन्होंने एक डेयरी की दुकान में नौकरी करना शुरू किया जहा उन्हें रहने की भी जगह मिल गयी।

लेकिन जायसवाल वहा ज्यादा दिन नहीं टिक पाए उन्हें क्रिकेट में रूचि रखने की वजह से दुकान से निकल दिया गया  उसके बाद उसके पास रहने की जब कोई जगह नहीं रही तो वे मैदान में हे एक टेंट लगाके रहने लगे और अपना जीवन यापन करने के लिए पानीपुरी बेचना शुरू  कर दिया। कुछ साल बाद दिसंबर 2013 में ज्वाला सिंह ने संताक्रूज़ में क्रिकेट अकाडेमी शुरू की जिसमे जायसवाल को रहने और ट्रेनिंग की सभी सुविधाए प्राप्त हुई।

यशस्वी जायसवाल का डोमेस्टिक क्रिकेट करियर – Yashasvi Jaiswal Domestic Cricket Career

क्रिकेट कोच की सहायता से अपनी क्रिकेट की ट्रेनिंग को खत्मं कर यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने अपने पहले ही मैच खेलते हुए नाबाद 319 रन  की पारी खेली जिस कारण वह वर्ष 2015 में क्रिकेट जगत में छागए। यशस्वी जायसवाल ने गिल्स शील्ड का मैच खेलते हुए 13/99 रन बनाके स्कूल क्रिकेट में ऑलराउंडर के रूप में रिकॉर्ड कायम किया उस समय जायसवाल के बनाये इस रिकॉर्ड को लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी स्थान दिया गया।

2018 की साल में उन्होंने अंडर -19 एशिया कप में श्रीलंका के खिलाफ खेलते हुए अपना डेब्यू किया एव 318 रन बनाये। इसके बाद उन्होंने वर्ष 2019 में दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध टेस्ट मैच में लगभग 220 गेंदों में से 173 गेंदों का सामना किया। कुछ समय बाद, उन्होंने इंग्लैंड में अंडर -19 त्रिकोणीय श्रृंखला में 7 मैचों में 294 रन बनाए, जिसमें चार अर्धशतक शामिल थे, जिसने बांग्लादेश को भी उजागर किया।

यशस्वी जायसवाल का आईपीएल करियर – Yashasvi Jaiswal IPL Career

यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) का बढ़िया प्रदर्शन देख उन्हें इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में भी शामिल कर लिया गया। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2020 की नीलामी के दौरान यशस्वी जायसवाल को शिल्पा शेट्टी की फ्रेंचाइजी टीम राजस्थान रॉयल्स ने 2.40 करोड़ रुपये में चुन लिया गया जिसके बाद यशस्वी जायसवाल का नाम कम उम्र में सबसे महंगे बिकने वाले खिलाड़ियों में शामिल हुआ।

युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने अपने आईपीएल करियर के दौरान कई मैच खेले और सभी मैचों में कबीले तारीफ परफॉरमेंस दी। जायसवाल ने अपने टी20 करियर की पहली फिफ्टी (CSK) के खिलाफ की जिसमे उन्होने सिर्फ 19 गेंद पर 50 रन पूरे किये जिसे देख उनके टीम के खिलाड़ियों ने उनकी सहराना की।

यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) के जीवन की कहानी को पढ़के हमे यह शिक्षा मिलती है की भले हे चाहे आप एक गरीब परिवार में जन्मे हो पर अपने सपने पुरे करने की ताकत और मजबूत सोच किसी को भी एक अच्छा मुकाम हासिल करने से नहीं रोक सकती और यशस्वी जायसवाल उसी का एक उदहारण है आज वे अपने कढ़ी परिश्रण और संघर्ष के बाद भारतीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टीम का हिस्सा है और साथ ही राजस्थान रॉयल्स जैसी एक अच्छी और मजबूत टीम हिस्सा है।

अगर हम यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) की कुल संपत्ति (Net Worth) की बात करे तो 2021 में उनकी लगभग 3 से 4 करोड़ की संपत्ति है जो उन्होंने अपने कड़े परिश्रम से कमाए है। यशस्वी जायसवाल की कमाई का मुख्य स्रोत भारतीय क्रिकेट और आईपीएल है।

Leave a Comment